मंगलवार, 30 जुलाई 2013

फ़ासले



रास्ते तो एक ही थे
फिर ये फ़ासले क्यूँ गढ़ लिए
कदम बढ़ा कर कभी कभी
फ़ासले पाट भी दिया करो
वरना अजनबीपन की नागफ़नी
उग जायेगी बीच में
हाथ बढ़ाना भी चाहोगे
तो चुभन होगी ....
बहुत मोड़ हैं न रास्ते में
नेह डोर से बंध कर रहना बस
वरना अगर मुड़ गए
तो वक्त नहीं देगी ज़िन्दगी उतना
जितना पहले दिया
हाथों का खालीपन तो सह लोगे
दिल के अकेलेपन से हार जाओगे
यकीनन !!






7 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई...फासले आपसी मिठास , आपसी तालमेल को भी रौंध देते हैं...इनसे जितना बच सको बचो.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल का एकाकीपन असहनीय है ,यक़ीनन !
    latest post होली

    उत्तर देंहटाएं
  3. फासले रीश्तों में मिठास को कम कर देते है
    फिर दिल का एकाकीपन..कोमल भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच यही है ..एक रास्ता होने पर भी...साथ साथ चलना हमेशा संभव नहीं हो पाता .न चाहते हुए भी धीरे धीरे बीच में फासले अपनी पैठ बना लेते हैं .पता है ,यह जो नागफनी है न अजनबीपन की, अधिकांशतः स्नेह की डोर तक को अपने में उलझा लेती है.....
    ज़िंदगी कहाँ वक्त देती है,यार ?इसी वक्त का ही तो सारा रोना है.हाथों का खालीपन का भी जब जब एहसास होता है तो बुरा हाल होता है पर हाँ दिल का खालीपन तो जानलेवा है

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच में फासले जीवन में त्रासदी पैदा करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच में फासले जीवन में त्रासदी पैदा करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं

कुछ चित्र ये भी