गुरुवार, 29 मार्च 2012

मेरी आँखों के ख्वाब





कितने ही ख्वाबों को 
यादों की जिल्द लगा 
पलकों की कोरों पर 
करीने से सहेजा है ...
जैसे  अलमारी में 
किताबें सजाता है कोई .

कितने ही ख्वाबों को 
ताकीद की गिरह से बाँध 
मन के खूंटे से 
बाँध दिया है कस के ...
जैसे पगहे में 
गाय बांधता है कोई .

कुछ  सुर्ख-सियाह ख्वाब
ऐसे भी हैं बेचारे
जिन्हें हरदम बुनती रहती हूँ ..
जैसे ऊन सलाई और फंदों से
डिज़ाइन बुनता है कोई .

कुछ ख्वाबों को डालकर 
अक्सर भूल जाती हूँ 
तकिये के नीचे ..
चादर की तहों में ..
राशन की रसीदों की पीठ पर 
या डायरी के पन्नों में .

कुछ चलते ही रहते हैं 
फिल्म की तरह आँखों में
बिना इंटरवल ब्रेक के ...
कुछ डेली सोप की शक्ल 
अख्तियार कर लेते हैं ...
रोज आते हैं, बिला नागा 
तयशुदा वक्त पर दस्तक देने .

मेरी आँखों में 
ख्वाबों का recurring deposit है 
ऊपर वाला इन खातों पर 
maturity date डालना 
भूल गया है .



39 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी आँखों में
    ख्वाबों का recurring deposit है
    ऊपर वाला इन खातों पर
    maturity date डालना
    भूल गया है .

    बहुत खूब......
    ................................

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी पूनम ...मेर सपने बैंक में जमा हैं ..सराहना का शुक्रिया

      हटाएं
  2. तुलिकाजी बहुत सुन्दर लिखा है आपने ....हर ख्वाब की अपनी तासीर है ...हर पंक्ति सजी हुई ...बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सरस जी आपकी सराहना संबल है मेरा ..शुक्रिया

      हटाएं
  3. कल 31/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उत्साहित करने का ये तरीका अच्छा लगा यशवंत जी ..अत्यंत आभार

      हटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. तूलिका....क्या गज़ब लिखती हो...बहुत अच्छा लगा ,पढ़ कर.
    यार... ख़्वाबों को करीने से सहज के रखना ...उम्मीद भी जिंदा रखना कि आज नहीं तो कल पूरे ज़रूर होंगे .
    ताकीद मत दिया करो न.....प्लीज़....पता है अभी तेरे सारे ख्वाब मुझसे कह कर गए हैं कि हमारी सिफारिश कर दीजिए न...कि बांधें न,हमें.
    सुर्ख और सियाह ख्वाब.....इनके लिए कुछ नहीं कहूँगी...बुनती रहो....फिर पहन लेना एक दिन इन्हें ही .
    कुछ ख्वाब जो इधर-उधर रख भूल जाती हो...उनकी वजह से ही तो हमें कवितायें मिलती हैं..हैं न ?
    रोज वाले ख़्वाबों की तो आदत है,तुम्हें...उनके बिना गुजारा भी तो नहीं है .
    maturity date ..?पक्का होगी...इस जनम नहीं तो अगले जनम की होगी..होगी ज़रूर...यकीन मानो....दोस्तों की दुआएं कभी तो काम आयेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी जान तेरी सिफारिश की चिठ्ठी पहुँच गयी मेरे पास ...विचार करूंगी ....सुर्ख सियाह ख्वाब तो ओढ़े रहती हूँ हमेशा ..अधूरे बुने है तो क्या हुआ ......पूरी लालबुझक्कड़ हो! सच ही है मेरी कवितायें मेरे ख्वाब ही हैं ..और मैं इनसे मुहब्बत करती हूँ बेइंतहा (ये भी जानती हूँ कि मुहब्बत कभी पूरी नहीं होती )...दुआ तो तुम अगले जनम के लिए ही करो यार :) ....इत्ते सारे ख्वाब अगले जनम में पूरे जो होंगे तो मैं तो मालामाल हो जाऊंगी

      हटाएं
  6. मेरी आँखों में
    ख्वाबों का recurring deposit है
    ऊपर वाला इन खातों पर
    maturity date डालना
    भूल गया है .
    खुदा करे यह recurring खत्म न हो ...अजीब लगा होगा न तुम्हें यह सुनकर लेकिन प्यारी दोस्त , यह ख्वाब हैं तो हम जिंदा हैं जिस दिन यह आँखों से चले गए खुदा जाने वो ज़िंदगी फिर क्या होगी ..... ज़िंदगी होगी भी या नहीं ....बस इन्हे पूरा करने का जतन जारी रखो .... बहुत भाई तुम्हारी यह कविता ... दिल के बहुत करीब

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बदले में तुम्हे भी खूब सारा प्यार ...हाँ मेरे ख्वाबों के recurring deposit में किस्त रोज भरी जाती है ....बस यूँ ही दिल के करीब रखना मुझे भी

      हटाएं
  7. मेरी आँखों में
    ख्वाबों का recurring deposit है
    ऊपर वाला इन खातों पर
    maturity date डालना
    भूल गया है .


    ये अंदाज़ बहुत भाया!!
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह! बहुत सुंदर रचना....

    रिकरिंग डिपासिट... मेच्युरीटी डेट...
    नए बिम्ब... वाह!
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिम्बों की सराहना का शुक्रिया हबीब साहब

      हटाएं
  9. मेरी आँखों में
    ख्वाबों का recurring deposit है
    ऊपर वाला इन खातों पर
    maturity date डालना
    भूल गया है .

    ....बहुत खूब ! लाज़वाब अहसास...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  10. excellent...excellent........
    this is my first visit to ur blog.........
    loved this poem....

    following you......hope to see more of ur creations...
    regards

    anu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको अच्छा लगा है तो अब इस गली इस डगर आते रहियेगा

      हटाएं
  11. कितने ही ख्वाबों को
    ताकीद की गिरह से बाँध
    मन के खूंटे से
    बाँध दिया है कस के ...
    जैसे पगहे में
    गाय बांधता है कोई .
    क्या बात है .........बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी शुक्रिया ...ख्वाब हमेशा सुन्दर ही होते हैं

      हटाएं
  12. कुछ ख्वाबों को डालकर
    अक्सर भूल जाती हूँ
    तकिये के नीचे ..
    चादर की तहों में ..
    राशन की रसीदों की पीठ पर
    या डायरी के पन्नों में .

    मेरी आँखों में
    ख्वाबों का recurring deposit है

    Wah...bahut sundar, bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  13. कितने ही ख्वाबों को
    ताकीद की गिरह से बाँध
    मन के खूंटे से
    बाँध दिया है कस के ...
    जैसे पगहे में
    गाय बांधता है कोई .............वाह अदभुत पंक्तियाँ !ख्वाबों की बुनाई तारीफ़ ए काबिल है तुलिका ..:)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सरोज दी ..ये पंक्तियाँ जो आपने कोट कीं ..मेरे दिल के काफी करीब हैं ..शुक्रिया सराहना का

      हटाएं
  14. बहुत खूब लिखा है | ख्वाब racurring deposit हो सकता है अच्छी कल्पना है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पसंद करने का शुक्रिया आशा जी

      हटाएं
  15. बहुत खूब ... ख्वाबो का रिकरिंग डिपोसिट ... नए बिम्ब ले के बुनी है ख़्वाबों की रचना ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिम्बों की तारीफ़ का शुक्रिया दिगंबर जी

      हटाएं
  16. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं

कुछ चित्र ये भी