शुक्रवार, 2 नवंबर 2012

याद के बादल



तुम रूठ गए थे ....
तो जैसे शब्दों ने भी
कुट्टी कर ली थी मुझसे
आंसुओं की तरह आँखों में
उमड़ते तो थे
पर पलकों से ढुलक
गालों पर नहीं गिरते थे
अवरुद्ध था मार्ग
पुतलियों से कंठ तक ..
जैसे कोई सोता हो
फूट पड़ने को बेताब ..
.....
मौसम बरसात का नहीं है ...
पर आज कोई कविता बरसेगी
मन में घुमड़ आए हैं
तेरी याद के बादल .











15 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 07/11/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाढ़ ही आएगी अब तो.....उसकी यादें भी कोई कम थोड़ी न होंगीं....
    <3

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौसम बरसात का नहीं है ...
    पर आज कोई कविता बरसेगी
    मन में घुमड़ आए हैं
    तेरी याद के बादल .....बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  4. जब घुमड़ ही आए हैं बादल तो बारिश तो होनी ही हुई ... सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह तुलिका जी कितना प्यार भरा है इन शब्दों में

    उत्तर देंहटाएं
  7. आंसुओं की तरह आँखों में
    उमड़ते तो थे
    पर पलकों से ढुलक
    गालों पर नहीं गिरते थे.......बहुत बढ़िया जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर भावों से सजी रचना... आनंद की अनुभूति हो गयी... कभी आना.. http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर रचना..
    प्यारी...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर ..... मेरी पहली टिप्पणी स्पैम में देखिएगा

    उत्तर देंहटाएं
  11. कुट्टी अबा का खेल यूँ ही चलता रहे ...:))

    उत्तर देंहटाएं


  12. मौसम बरसात का नहीं है ...
    पर आज कोई कविता बरसेगी
    मन में घुमड़ आए हैं
    तेरी याद के बादल


    बहुत सुंदर तूलिका शर्मा जी !

    बहुत अच्छा शब्दचित्र उकेरा आपने …

    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं


  13. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**●राजेन्द्र स्वर्णकार●**♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    उत्तर देंहटाएं
  14. याद के ये बादल ....कितना कुछ देते हैं....एक नयी कविता का सामान ..नम आँखें ...गुमसुम दिल..तेज सांसें....भरा भरा कंठ....उमडती घुमडती बातों के सिलसिले ....कौंधती प्यार की बिजलियों की सौगातें .
    कह दो न ..इनसे ...न आया करें ..यूँ न छाया करें ...मुझे इनसे कुछ नहीं चाहिए क्यूंकि मुझे तेरी यादें नहीं ...तू चाहिए

    उत्तर देंहटाएं

कुछ चित्र ये भी